PIKU Title Song, पिकू टाइटल सोंग Lyrics – Sunidhi Chauhan feat. Deepika Padukone

Piku Title Song, पिकू टाइटल सोंग Lyrics Starring Deepika Padukone is sung by Sunidhi Chauhan, composed by Anupam Roy and penned by Manoj Yadav. Again a great song the house of Piku. You can enjoy the song by listening and watching its video and Lyrics are also their as always. You can enjoy Lyrics in Hindi and English versions.

PIKU Title Song, पिकू टाइटल सोंग Star Cast

Singer: Sunidhi Chauhan
Music: Anupam Roy
Lyrics: Manoj Yadav
Music On: Zee Music Company

PIKU Title Song, पिकू टाइटल सोंग Video

Piku Title Song LYRICS:

Subah ki dhoop pe isi ki dastkhat hai
Isi ki roshni udi jo har taraf hai
Ye lamho ki kuve mein roz jhaankti hai
Ye jaake waqt se hisaab maangti hai
Ye paani hai ye aag hai
Ye khudi likhi kitaab hai
Pyaar ki khuraak si hai Piku!
Subah ki dhoop pe isi ki dastkhat hai

Panna saanson ka palte
Aur likhe unpe mann ki baat re
Lena isko kya kis se
Isko toh bhaaye khudka saath re
Uh oh.. barish ki boond jaise
Sardi ki dhundh jaise
Kaisi paheli iska hal na mile

Kabhi ye aasmaan utaarti hai neeche
Kabhi ye bhaage aise baadalon ke peeche
Isey har dard ghoont jaane ka nasha hai
Karo jo aaye jee mein iska falsafa hai

Ye paani hai ye aag hai
Ye khudi likhi kitaab hai
Ye pyaar ki khuraak si hai Piku!

Mode raahon ke chehre
Isko jaana hota jis ore hai
Aise sargam sunaaye
Khud iske sur hain iske raag re
Uh oh.. roothe toh mirchi jaisi
Hansde toh cheeni jaisi
Kaisi paheli iska hal na mile

Subah ki dhoop pe isi ki dastkhat hai
Isi ki roshni udi jo har taraf hai
Ye lamho ki kuve mein roz jhaankti hai
Ye jaake waqt se hisaab maangti hai

Ye paani hai ye aag hai
Ye khudi likhi kitaab hai
Pyaar ki khuraak si hai Piku!
Subah ki dhoop pe isi ki dastkhat hai

 पिकू टाइटल सोंग Lyrics in Hindi

सुबह की धुप पे इसी की दस्तखत हैं
इसी की रौशनी उडी जो हर तरफ हैं
ये लम्हों के कुवे मे रोज़ झांकती हैं
ये जाके वक़्त से हिसाब मांगती हैं
ये पानी हैं ये आग हैं, ये खुदी लिखी किताब हैं
प्यार की खुराक सी हैं पिकू
सुबह की धुप पे इसी की दस्तखत हैं

पन्ना साँसों का पलते और लिखे उनपे मन की बात रे
लेना इसको क्या किसी से, इसको तो भाये खुद का साथ रे
उह ओह बारिश की बूँद जैसी, सर्दी की धुंध जैसी
कैसी पहेली इसका हल न मिले
कभी ये आसमान उतारती हैं नीचे
कभी ये भागे ऐसे बादलो के पीछे
इसे हर दर्द घूँट जाने का नशा हैं
करो जो आये जी मे इसका फलसफा हैं
ये पानी हैं ये आग हैं, ये खुदी लिखी किताब हैं
प्यार की खुराक सी हैं पिकू

मोड़े राहो के चेहरे, इसको जाना होता जिस और हैं
ऐसे सरगम सुनाये, खुद इसके सुर हैं इसके राग रे
उह ओह रूठे तो मिर्ची जैसी, हँस दे तो चीनी जैसी
कैसी पहेली इसका हल न मिले
सुबह की धुप पे इसी की दस्तखत हैं
इसी की रौशनी उडी जो हर तरफ हैं
ये लम्हों के कुवे मे रोज़ झांकती हैं
ये जाके वक़्त से हिसाब मांगती हैं
ये पानी हैं ये आग हैं, ये खुदी लिखी किताब हैं
प्यार की खुराक सी हैं पिकू
सुबह की धुप पे इसी की दस्तखत हैं

13 Lyrics Score
Our Reader Score
[Total: 0 Average: 0]