Jalte Diye Song Lyrics from Prem Ratan Dhan Payo by Irshad Kamil

Jalte Diye Song Lyrics from the Movie Prem Ratan Dhan Payo starring Salman Khan and Sonam Kapoor, sung by Vineet Singh, Anwesshaa, composed by Himesh Reshammiya and lyrics by Irshad Kamil. The Movie Releases on 12th November 2015. Scroll below to see the video and lyrics of this song in hindi and english versions.

Jalte Diye Star Cast

Starring :- Salman Khan and Sonam Kapoor
Singers: Vineet Singh, Anwesshaa (Additionals Harshdeep Kaur, Shabab Sabri, Chorus)
Music: Himesh Reshammiya
Lyrics: Irshad Kamil
Music On: T-Series
Release Date : 12th November 2015

Jalte Diye Video

Jalte Diye LYRICS:

Aaj agar milan ki raat hoti
Jaane kya baat hoti
To kya baat hoti

Sunte hain jab pyaar ho toh
Diye jal uthte hain
Tan mein, mann mein, aur nayan mein
Diye jal uthte hain

Aaja piya aaja
Aaja piya aaja ho..
Naa ja piya aaja
Teri hi tere hi liye, jalte diye
Bitani tere saaye mein, saaye mein
Zindagani bitani tere saaye mein, saaye mein

Kabhi kabhi..
Kabhi kabhi aise diyon se
Lag bhi jaati aag bhi

Aa…
Dhule dhule se aanchalon pe
Lag hain jaate raag bhi
Hain viraano mein badalte
Dekhe mann ke baag bhi

Sapno mein shringar ho to
Diye jal uthte hain
Khwahishon ke aur sharam ke
Diye jal uthte hain

Aaja piya aaja teri hi, tere hi liye
Jalte diye..
Bitani tere saaye mein, saaye mein…..

Mera nahin..
Mera nahin hai woh diya jo
Jal raha hai mere liye
Meri taraf kyun ye ujaale
Aaye hain inko rokiye….

Yoon begaani roshni mein
Kab talak koi jiye….

Saanson mein jhankaar ho to
Diye jal uthte hain
Jhanjharon mein kangano mein
Diye jal uthte hain….

Aaja piya hmmm…
Jalte diye
Bitani tere saaye mein, saaye mein
Zindagani bitani tere saaye mein, saaye mein

Saaye mein saaye tere..

(Saaye mein tere.. bitani zindagani..)

Saaye mein saaye tere..

Saaye mein.. bitani Zindagani…..

Jalte Diye LYRICS in Hindi

आज अगर मिलन की रात होती
जाने क्या बात होती, तो क्या बात होती …सुनते हैं जब प्यार हो तो
दिए जल उठते हैं
तन में, मन में और नयन में
दिए जल उठते हैं …..

आजा पिया आजा, आजा पिया आजा हो
आजा पिया आजा, तेरे ही तेरे लिए जलते दिए
बेपानी तेरे साए में साए में
जिंदगानी बिताई तेरे साए में साए में …..

कभी कभी, कभी कभी ऐसे दीयों से
लग ही जाती आग भी
धुले धुले अंचलों पे
लग ही जाते दाग भी
हैं वीरानों में बदलते
देखे मन के बाग़ भी …..

सपनों में श्रीनगर हो तो
दिए जल उठते हैं
ख्वाहिसों के और शर्म के
दिए जल उठते हैं …..

आजा पिया आजा, आजा पिया आजा हो
आजा पिया आजा, तेरे ही तेरे लिए जलते दिए
बेपानी तेरे साए में साए में
जिंदगानी बिताई तेरे साए में साए में …..

मेरा नहीं, मेरा नहीं है वो दिया जो
जल रहा है मेरे लिए
मेरी तरफ क्यूँ ये उजाले आये हैं
इनको रोकिये
यूँ बेगानी रौशनी में, कब तलक कोई जिए ……
साँसों में झंकार हो तो
दिए जल उठते हैं
झाँझरों में कंगनों में
दिए जल उठते हैं ……
आजा पिया, हम्म जलते दिए
बेपानी तेरे साए में साए में
जिंदगानी बिताई तेरे साए में साए में……साए में, साए तेरे.. साए में, साए तेरे
साए में, साए तेरे.. साए में, साए तेरे ……

13 Lyrics Score
Our Reader Score
[Total: 1 Average: 5]