Alif Se, अलिफ़ से Song Lyrics from Mr. X by Abhendra Kumar Upadhyay

Alif Se, अलिफ़ से Song Lyrics from the Movie Mr. X Starring Emraan Hashmi is sung by Ankit Tiwari & Neeti Mohan, composed by Ankit Tiwari and penned by Abhendra Kumar Upadhyay. Great song from a great movie. so, let’s start enjoy listening and watching this song. Lyrics available in English and Hindi versions. Scroll below for more details.

Alif Se, अलिफ़ से Star Cast

Singer: Ankit Tiwari, Neeti Mohan
Music: Ankit Tiwari
Lyrics: Abhendra Kumar Upadhyay
Music On: Sony Music India

Alif Se, अलिफ़ से Video

Alif Se LYRICS:

In dino meri ab saanson me ho raha kharch tu
Kar yakeen meri an jeene ki ban gaya shart tu
Alif se aipar tu yahaan sheh par tu
Khuda pe naksh hai tera, ishq ka paikar tu
Alif se aipar tu yahaan sheh par tu
Khuda pe naksh hai tera, ishq ka paikar tu

Dekh le mere alfaazon se tu
Boond boond girta rehta hai
Sun zara meri awaazon ke tu
Saath saath behta rehta hai

Tu khudko dekh na paye jahan me wo jagah hu
Main teri dhadkano ki gintiyon ki bhi wajah hoon
Main teri dhoop mein roshan hua qatra hoon koi
Na jiske peeche koi raat ho me wo subah hoon
Tu woh subah hai..

Alif se aipar tu yahaan sheh par tu
Khuda pe naksh hai tera, ishq ka paikar tu
Alif se aipar tu yahaan sheh par tu
Khuda pe naksh hai tera, ishq ka paikar tu

Dekh le meri inn aankhon mein tu
Khwaab se milta-julta hai
Sach hai ye har jagah neendon pe tu
Roz roz ugta rehta hai

Main khud se hi juda khud se riha
khud main dhuaan hoon
Ki main hi ab nahi mujh mein
Bata ki main kahaan hoon
Main tere khwabo ke behte kinaro pe khada hun
Tu mud ke dekh le mujhko
main tera hi nishaan hoon
Tu hi nishaan hai o…

Alif se aipar tu yahaan sheh par tu
Khuda pe naksh hai tera, ishq ka paikar tu
Alif se aipar tu yahaan sheh par tu
Khuda pe naksh hai tera, ishq ka paikar tu

अलिफ़ से Lyrics in Hindi

इन दिनों मेरी अब साँसों मे हो रहा खर्च तू
कर यकीन मेरी अब जीने की बन गया शर्त तू
अलिफ़ से एपर तू यहाँ हर शह पर तू
खुदा पे नक्श हैं तेरा, इश्क का पैकर तू
अलिफ़ से एपर तू यहाँ हर शह पर तू
खुदा पे नक्श हैं तेरा, इश्क का पैकर तू

देख ले मेरे अल्फाजो से तू बूंद बूंद गिरता रहता हैं
सुन ज़रा मेरी आवाजों के तू साथ साथ बहता रहता हैं
तू खुदको देख ना पाए जहाँ मैं वो जगह हूँ
मैं तेरी धडकनों की गिनतियो की भी वजह हूँ
मैं तेरी धुप मे रोशन हुआ कतरा हूँ कोई
ना जिसके पीछे कोई रात हो मैं वो सुबह हूँ
तू वो सुबह हैं
अलिफ़ से एपर तू यहाँ हर शह पर तू
खुदा पे नक्श हैं तेरा, इश्क का पैकर तू
अलिफ़ से एपर तू यहाँ हर शह पर तू
खुदा पे नक्श हैं तेरा, इश्क का पैकर तू

देख ले मेरी इन आँखों मे तू ख्वाब से मिलता-जुलता हैं
सच हैं ये हर जगह नींदों पे तू रोज़ रोज़ उगता रहता हैं
मैं खुद से ही जुदा, खुद से या खुद मैं धुआ हूँ
की मैं ही अब नहीं मुझ मे बता की मैं कहाँ हूँ
मैं तेरे ख्वाबो के बहते किनारों पे खड़ा हूँ
तू मुड के देख ले मुझको मैं तेरा ही निशान हूँ
तू ही निशान हैं ओ
अलिफ़ से एपर तू यहाँ हर शह पर तू
खुदा पे नक्श हैं तेरा, इश्क का पैकर तू
अलिफ़ से एपर तू यहाँ हर शह पर तू
खुदा पे नक्श हैं तेरा, इश्क का पैकर तू

13 Lyrics Score
Our Reader Score
[Total: 0 Average: 0]